अल्पसंख्यक विमर्श

मुस्लिम औरतों की सच्ची अक्कासी ‘सूखी रेत’ गुड़िया का घर’ में

मुस्लिम महिलाओं की स्थिति पर विचार करें तो निश्चितरूप से समाज में इन स्त्रियों की बिगड़ती हुई सामाजिक, आर्थिक, धार्मिक एवं सांस्कृतिक हैसियत का अनुमान लगाया जा सकता हैं।

मुंशी ज़का उल्लाह और डिप्टी नज़ीर अहमद के शैक्षिक कार्य-अब्दुल अहद

दिल्ली के 19 वीं शताब्दी के दो महत्वपूर्ण विद्वान मुंशी जका अल्लाह (1832-1910) और डिप्टी नज़ीर अहमद(1830-1912) के शैक्षिक प्रयासों का उल्लेख किया जाएगा। इसके अन्तर्गत हम देखेंगे कि उनके यह प्रयास किस तरह अंग्रेजों व सर सय्येद के प्रयासों से अलग थे और उनके द्वारा यह शैक्षिक कार्य क्यों अंजाम दिए जा रहे थे।

Recent

Check out more Articles

Popular