मुल्क की शान (गज़ल)-अनुज पांडेय

Please share
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Please share          मुल्क की शान (गज़ल)                वे महफूज़ आवाम की जान रखते हैं              ख़ुद मिटकर मुल्क की शान रखते हैं।               छोड़के

Read more