Showing 1 Result(s)

मुल्क की शान (गज़ल)-अनुज पांडेय

मुल्क की शान (गज़ल)                वे महफूज़ आवाम की जान रखते हैं              ख़ुद मिटकर मुल्क की शान रखते हैं।               छोड़के आशियाना,आकर सरहद पर             मां की खिदमत का अरमान रखते हैं।              आएंगे कभी लौटकर, मिलने इक बार            दोस्तों, परिजनों से वे जुबान रखते हैं।              ख़ुदगरजी को …

error: कॉपी नहीं शेयर करें!!