साहित्यिक रचनाएँ (ग़ज़ल)

मुल्क की शान (गज़ल)-अनुज पांडेय

मुल्क की शान (गज़ल)                वे महफूज़ आवाम की जान रखते हैं              ख़ुद मिटकर मुल्क...

Recent

Check out more Articles

Popular