Home Education Discourse शिक्षा विमर्श

Education Discourse शिक्षा विमर्श

A COMPARTIVE STUDY OF PROFESSIONAL DEVELOPMENT OF SENIOR SECONDARY SCHOOL BETWEEN...

A COMPARTIVE STUDY OF PROFESSIONAL DEVELOPMENT OF SENIOR SECONDARY SCHOOL BETWEEN MALE & FEMALE TEACHERS Dr Rajkumari , Assistant Professor, BPS...

स्वंत्रता से पूर्ण स्वतंत्रता की ओर -रीत कुमार रीत

स्वंत्रता से पूर्ण स्वतंत्रता की ओर : विमर्श आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर आप सभी भारत वासियों को...

स्व शिक्षण से स्वयं को सवारें :

स्व शिक्षण से स्वयं को सवारें : आप किसी भी क्षेत्र में नेतृत्वकर्ता की भूमिका में हों या फिर उनसे...

मार्गदर्शक बनें आलोचक नहीं

मार्गदर्शक बनें आलोचक नहीं हम सब का जीवन में कई बार आलोचकों...
silhouette of child sitting behind tree during sunset

Challenges of Online Education in Rural Areas in Covid-19 Emergency

Today all educational institutions are providing online education, conducting examinations through online
woman standing writing on black chalkboard

बहुभाषी शिक्षा: समता और सामाजिक न्याय की ओर एक कदम

बच्चों में ज्ञानात्मक अकादमिक शैक्षिक भाषिक निपुणता की क्षमता को विकसित करने के लिए मातृभाषा में हुई बनियादी पारस्परिक संप्रेषण कौशल को आधार बनाया जाता हैं। कहने का तात्पर्य यह हैं कि ज्ञानात्मक अकादमिक शैक्षिक भाषिक निपुणता को विकसित करने में मातृभाषा की जरूरत पड़ती हैं।

नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2019: एक अवलोकन-डॉ. अजय कुमार सिंह

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने नई शिक्षा नीति तैयार करने के लिये वर्ष 2015 में पूर्व कैबिनेट सचिव टी.एस.आर. सुब्रमण्यम की अध्यक्षता में पाँच सदस्यीय समिति का गठन किया गया। समिति की ओर से तैयार नई शिक्षा नीति का मसौदा सरकार को सौंप दिया गया। इस नीति की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि स्कूली शिक्षा, उच्च शिक्षा के साथ कृषि शिक्षा, कानूनी शिक्षा, चिकित्सा शिक्षा और तकनीकी शिक्षा जैसी व्यावसायिक शिक्षाओं को इसके दायरे में लाया गया है।

Experiential learning, its Concept, Its Process, role of Instructor and of...

Experiential learning, its Concept, Its Process, role of Instructor and of learners in this process & its integration with...