Home Language Discourse भाषिक –विमर्श

Language Discourse भाषिक –विमर्श

हिन्दी आख़िर क्यों ?

हिन्दी आख़िर क्यों ? संवाद की समरूपता में निहित है राष्ट्र की प्रगति डॉ. अर्पण जैन 'अविचल' भाषा...
black text reflect on eyeglasses

Natural Language Planning Vs Sign Language PLANNING: A Specialized Approach

This article introduces the present collection of Sign language planning and natural language planning studies
letter wood stamp lot

Role of Socio-Economic Factors in English Language Learning

This paper may help parents, teachers, and educational administrators to know the importance of socio-economic factor in determining the academic achievement of the students
white and black number 8

On the Turkic loanwords in Hindi

The present topic considers the Turkic words in Modern Hindi
open Dictionary

ENGLISH- A LANGUAGE OF GLOBAL BUSINESS

English is one language that serves all the need as it is spoken and known to almost every country in the world
landscape of village houses during dusk

निम्नवर्गीय आक्रोश और रेणु की रचनादृष्टि-डॉ. रामउदय कुमार

भारतीय समाज में शोषण के जितने चक्र रहे हैं, उतनी ही उनके खिलाफ संघर्ष की कवायद भी रही है। निम्न वर्ग के ये संघर्ष अलग- अलग रूपों में हमारे सामने आते रहे हैं, आज़ादी से पहले भी, आज़ादी के बाद भी। फणीश्वरनाथ रेणु ने यह दोनों दौर देखे थे।
Hindi Font Converter

आर्थिक मजबूती से बढ़ेगा हिन्दी का साम्राज्य

भारत विश्व का दूसरा बड़ा बाजार हैं, यदि इस राष्ट्र का प्रतिनिधित्व करने वाली भाषाओँ में हिन्दी का स्थान अग्रगण्य है तो यहाँ की सरकारों को इस दिशा में सार्थक प्रयास करना होंगे जिससे भारत के जनमानस के बीच हिन्दी में कार्य व्यवहार हो, रोज़गार, आमदनी के अवसर मिले, हिन्दी में लिखने वालों की आय सुनिश्चित हो सकें

वैश्वीकरण के युग में हिंदी भाषा-डा. पवनेश ठकुराठी

प्रस्तुत शोध आलेख में आधुनिक वैश्वीकरण के युग में हिंदी भाषा की दशा, दिशा एवं उसकी वैश्विक स्थिति का विवेचन विश्लेषण किया गया है। इस विष्लेषण के माध्यम से विश्व भर में हिंदी की स्थिति का उदघाटन करने का प्रयास किया गया है। इस हेतु विशेष रूप से डा0 जयंतीप्रसाद नौटियाल के शोध अध्ययन  को आधार बनाया गया है।

हिन्दी-उर्दू का अन्तर्संबंध और निदा फ़ाज़ली की कविता-ग़ज़ल: डॉ. बीरेन्द्र सिंह

हिन्दी-उर्दू का अन्तर्संबंध और निदा फ़ाज़ली की कविता-ग़ज़ल डॉ. बीरेन्द्र सिंहसहायक प्राध्यापक, हिन्दी विभागस्कॉटिश चर्च कॉलेज, कोलकातामो.-9331265343ई-मेल: birendra_scottish@yahoo.in   शोध सारांश हिन्दी और...

Structure of Complex Verb in Hindi- Arun Kumar Pandey, Indra Kumar...

Structure of Complex Verb in Hindi    Arun Kumar Pandey                                                                           Indra Kumar Pandey   (Ph.D Language Technology)                                                                   (Ph.D Language...