Home Third Gender Discourse किन्नर –विमर्श

Third Gender Discourse किन्नर –विमर्श

man in black leather jacket

हिंदी उपन्यास और किन्नर समुदाय का संघर्ष- शिवांक त्रिपाठी

हिंदी साहित्य में इन्हीं वर्गों को विशेष रूप से केंद्र में रखकर कुछ उपन्यासों की रचना की गई जिनमें ‘यमदीप’, ‘तीसरी ताली’, ‘गुलाम मंडी’, ‘पोस्ट बॉक्स नं. 203 नाला सोपारा’, ‘किन्नर कथा’ ‘मैं पायल…’ आदि प्रमुख है; इन उपन्यासों द्वारा किन्नर जीवन में आने वाली विभिन्न कठिनाइयों एवं उनके संघर्षों को संवेदनात्मक स्तर पर बड़ी ही प्रमुखता से उठाया गया है
C:\Users\Hp\Desktop\buddhist-hell-2123927.jpg

भारत में किन्नरों की सामाजिक स्थिति और मान्यता-गौरव कुमार

कुछ विद्वान इसका अर्थ अश्वमुखी पुरुष से करते हुए किन्नरों को पुरुष और ऐसी स्त्रियों को किन्नरी कहते हैं। वर्तमान समय में किन्नर का आशय हिजड़ों से ही लिया जाता है। सृष्टि की वृद्धि में स्त्री और पुरुष की एक समान भूमिका होती है।

संघर्ष की दास्तान वाया थर्ड जेन्डर: डॉ0 आलोक कुमार सिंह

संघर्ष की दास्तान वाया थर्ड जेन्डर डॉ0 आलोक कुमार सिंह सहायक प्राध्यापक-हिन्दी विभागअटल बिहारी वाजपेई नगर निगम डिग्री कॉलेज ,...

किन्नर जीवन : एक दर्द भरा दास्तान-पूजा सचिन धारगलकर

किन्नर जीवन : एक दर्द भरा दास्तान पूजा सचिन धारगलकरइ.डब्ल्यू.एस 247,हनुमान मंदिर के पास,हाउसिंग बोर्ड रुंमदामोल दवर्लिम सालसेत (गोवा) -403707संपर्क...