JANKRITI- Vol. 6, Issue 68, December 2020


जनकृति का दिसंबर अंक आप सभी के समक्ष प्रस्तुत है। 

Vol. 6, Issue 68, December 2020 वर्ष 6, अंक 68, दिसंबर 2020 

दिसंबर अंक का आवरण पृष्ठ (कवर पेज) डाउनलोड करें – कवर पेज

दिसंबर अंक की विषय सूची (इंडेक्स) डाउनलोड करें – विषय सूची (इंडेक्स)

दिसंबर अंक में प्रकाशित सामग्री को आप यहाँ देख सकते हैं साथ ही प्रत्येक सामग्री की पीडीएफ कॉपी भी डाउनलोड कर सकते हैं- 

क्रमांक विषय पृष्ठ संख्या पीडीएफ़    

अनुवाद

   

1.

असम का सांस्कृतिक पर्यटन : अनुवाद और निर्वचन की वर्तमान स्थिति एवं समस्याएँ: उज्जवल डेका बरुआ

1-15

पढ़ें

   

अल्पसंख्यक विमर्श

   

2.

मुंशी ज़का उल्लाह और डिप्टी नज़ीर अहमद के शैक्षिक कार्य: अब्दुल अहद

16-25

पढ़ें

   

इतिहास

   

3.

अकबर की धार्मिक नीति: जुगनू आरा

26-31

पढ़ें

   

कला-विमर्श

   

4.

मालवा लोक जीवन में राम की प्रासंगिकता:  डॉ. अर्जुन सिंह पंवार

32-35

पढ़ें

   

5.

भक्तिकालीन हिन्दी रंगमंच में परंपराशील नाट्य शैलियों का योगदान: दीपा

36-50

पढ़ें

   

6.

बुजुर्गों का अकेलापन और हिन्दी सिनेमा: डॉ. आशा

51-55

पढ़ें

   

 किन्नर-विमर्श

   

7.

बदलती अर्थनीति और किन्नर समुदाय : परिवर्तन एवं प्रभाव- भावना चोटिया

56-62

पढ़ें 

   

 दलित एवं आदिवासी विमर्श

   

8.

भारत में जाति समस्या: पूनम गुप्ता

63-67

पढ़ें

   

9.

सुशीला टाकभौरे कृत “नीला आकाश” उपन्यास में दलित जीवन का परिपेक्ष्य- उषा यादव

68-72

पढ़ें

   

10.

दलित शब्द का अर्थ: परिभाषा एवं अवधारणाएँ-डॉ. गोविंद कुमार

73-78

पढ़ें

   

11.

दलित राजनीति का उभार और शिव मूर्ति का कथा साहित्य: कौशल कुमार पटेल

79-84

पढ़ें

   

12.

दलित लोकजीवन का सौंदर्य प्रतीक ‘मुर्दहिया’: डॉ.राजेन्द्र परमार

85-91

पढ़ें

   

        बाल -विमर्श

   

13.

प्रेमचंद की बाल कहानियों में नैतिकता: वंदना

92-96

पढ़ें 

   

                                                                  भाषिक-विमर्श

   

14.

आर्थिक मजबूती से बढ़ेगा हिन्दी का साम्राज्य: डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

97-99

पढ़ें

   

                                                                   शिक्षा-विमर्श

   

15.

बहुभाषी शिक्षा: समता और सामाजिक न्याय की ओर एक कदम: करन

100-105

पढ़ें

   

                                                              समसामयिक-विमर्श

   

16.

करोना महामारी और बेरोज़गारी: आरती शर्मा

106-108

पढ़ें

   

17.

आवां : विकलांगता और उसका प्रभाव- डॉ. संध्या कुमारी

109-113

पढ़ें

   

 स्त्री- विमर्श

   

18.

हीरादेवी चतुर्वेदी : ‘रंगीन पर्दा’ और स्त्रियाँ- आरती यादव

114-121

पढ़ें

   

19.

स्त्री पाठ : दुनिया की सबसे पुरानी सभ्यता- दिनेश कुमार

122-129

पढ़ें

   

 साहित्यिक-विमर्श

   

20.

सामाजिक ताना-बाना और स्वर्गवासी- प्रशांत कुमार यादव

130-133

पढ़ें

   

21.

समय के संदर्भ को दर्ज करता डायरी का गद्य

(विशेष संदर्भ:मोहन राकेश की डायरी ): डॉ.दीना नाथ मौर्य

134-141

पढ़ें

   

22.

समकालीन हिंदी कविता का वर्तमान परिदृश्य: शुभम सिंह

142-148

पढ़ें

   

23.

सत्ता, साम्प्रदायिकता और ध्रुवीकरण की राजनीति बनाम समकालीन हिंदी कविता- डॉ.गंगाधर चाटे

149-157

पढ़ें

   

24.

‘जारी है लड़ाई’ बनाम मुकम्मल आवाज- बृजेश प्रसाद

158-162

पढ़ें

   

25.

कविता का वर्तमान एवं औपनिवेशिकता: डॉ. राजेन्द्र कुमार सिंघवी

163-168

पढ़ें

   

26.

‘दायरा और ‘कांच’ कहानी में सामाजिक और आर्थिक चेतना का द्वंद’: ममता

169-178

पढ़ें

   

27.

बीसवीं सदी के उत्तरार्ध से अब तक प्रकाशित नवगीत रचनाओं का अनुशीलन: अशोक कुमार मौर्य

179-186

पढ़ें

   

28.

निर्मल वर्मा के चिन्तन में प्रकृति और पर्यावरण: डॉ. बीना जैन

187-196

पढ़ें

   

29.

‘नंगातलाई का गाँव’ में ग्राम्य जीवन का चित्रण: सच्चिदानंद

197-204

पढ़ें

   

30.

मुक्तिबोध की जीविका का संघर्ष: ‘लेक्चररशिप के लिए मेरा जी अभी भी ललकता है।- रमेश कुमार राज

205-213

पढ़ें

   

31.

गुरु नानक देव की समाज में जीवन मूल्य की शिक्षा: जगदाले अप्पासाहेब गोरक्ष

214-219

पढ़ें

   

32.

‘कसप’ में अभिव्यक्त रोमान और यथार्थ: शिखा

220-225

पढ़ें

   

33.

‘कठगुलाब’:एब्यूज्ड स्त्री चिंतन से आगे की कथा: डॉ.वीरेन्द्र प्रताप

226-232

पढ़ें

   

34.

इक्कीसवीं सदी के हिन्दी उपन्यासों का सामाजिक परिदृश्य और भूमण्डलीकरण: जगदीश सिंह

233-237

पढ़ें

   

35.

अपने वज़ूद को तलाशती स्त्री ‘सुहाग के नूपुर’- डॉ  शीला आर्या

238-249

पढ़ें

   

36.

श्रीमती यशोदा देवी की कहानियों का वैशिष्ट्य: डॉ. रुचिरा ढींगरा

250-255

पढ़ें

   

37.

‘तीसरी कसम’ में प्रयुक्त लोकगीत: डा. पवनेश ठकुराठी

256-258

पढ़ें

   

38.

कृषि पद्धति का ऐतिहासिक विकास: डॉ सुशील कुमार

259-267

पढ़ें

   

39.

‘सांस्कृतिक व राष्ट्रीय चिन्तक – कवि कन्हैयालाल जी सेठिया’: श्रीमति मंजू सारस्वत

268-273

पढ़ें

   

40.

कलि कथा वाया बाइपास में भूमंडलीकरण का  प्रभाव एवं प्रतिरोध: सुगता ए आर

274-278

पढ़ें

   

41.

एक माँ के अस्तित्त्व की खोज : ‘1084वें की माँ ’- डॉ.भानुबहन ए. वसावा

279-284

पढ़ें

   

42.

हिन्दी यात्रा साहित्य में रामवृक्ष बेनीपुरी: करुणा सक्सेना

285-289

पढ़ें

   

 प्रवासी साहित्य

   

43.

तेजेन्द्र शर्मा की कहानी खिड़की के अंदर-बाहर झांकती वृद्ध मनोस्थिति- मधु मेहता साथी

290-292

पढ़ें 

   
READ  नाट्यशास्त्रोक्त लक्षण एवं नाटक में उसकी उपादेयता-आशुतोष कुमार

 

सहयोग/ समर्थन

यदि आप जनकृति को पढ़ते हैं और यह पत्रिका आपको उपयोगी लगती है और आप इसकी मदद करना चाहते हैं तो आप सहयोग राशि दे सकते हैं-

आप निम्नलिखित बैंक अकाउंट में सहयोग राशि दे सकते हैं-
account holder’s name- Kumar Gaurav Mishra
Bank name- Punjab National Bank
Accout type- saving account
Account no. 7277000400001574
IFSC code- PUNB0727700

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Leave a Reply