Showing 1 Result(s)
C:\Users\Hp\Desktop\sketch\eye-4453129_640.jpg

यथार्थ के आईने में स्त्री-मधुमिता ओझा

स्त्री की अपनी इच्छाएं, जीवन के प्रति उसके अपने एप्रोच को तवज्जु दिए बगैर न तो स्त्री को समझा जा सकता है, न जेंडर समानता को, न स्त्री के प्रेम को और न ही स्त्री-विमर्श को। स्त्री-विमर्श को समझने के लिए स्त्री की ऑटोनोमी को समझना अनिवार्य है। यही कारण है कि लेखिका स्त्री को उसकी स्वायत्तता के प्रति जागरूक करती हैं।

error: कॉपी नहीं शेयर करें!!