Showing 1 Result(s)
photography of tall trees at daytime

एक माँ के अस्तित्त्व की खोज : ‘1084वें की माँ ’

महाश्वेता देवी लिखित ‘1084वें की माँ’ उपन्यास 70 के दशक के बंगाल के सामाजिक एवं राजनीतिक माहौल को दर्शाता है । उस वक्त नक्सलवाद अपने चरमसीमा पर था । छात्रों, गरीबों और आम जनता में अपनी सरकार को लेकर भयंकर असंतोष फैला हुआ था ।

error: कॉपी नहीं शेयर करें!!