Showing 3 Result(s)
C:\Users\Hp\Desktop\buddhist-hell-2123927.jpg

भारत में किन्नरों की सामाजिक स्थिति और मान्यता-गौरव कुमार

कुछ विद्वान इसका अर्थ अश्वमुखी पुरुष से करते हुए किन्नरों को पुरुष और ऐसी स्त्रियों को किन्नरी कहते हैं। वर्तमान समय में किन्नर का आशय हिजड़ों से ही लिया जाता है। सृष्टि की वृद्धि में स्त्री और पुरुष की एक समान भूमिका होती है।

संघर्ष की दास्तान वाया थर्ड जेन्डर: डॉ0 आलोक कुमार सिंह

संघर्ष की दास्तान वाया थर्ड जेन्डर डॉ0 आलोक कुमार सिंह सहायक प्राध्यापक-हिन्दी विभागअटल बिहारी वाजपेई नगर निगम डिग्री कॉलेज , लखनऊ शोध सार समाज का अंग होकर भी अपने अधिकारों से वंचित और अपनी अस्मिता के लिए संघर्षत किन्नर समाज आज भी प्रमुखता से चर्चा के केंद्र में नहीं है। इन्हें ‘तीसरी दुनिया’ ‘थर्ड जेंडर’ …

किन्नर जीवन : एक दर्द भरा दास्तान-पूजा सचिन धारगलकर

किन्नर जीवन : एक दर्द भरा दास्तान पूजा सचिन धारगलकरइ.डब्ल्यू.एस 247,हनुमान मंदिर के पास,हाउसिंग बोर्ड रुंमदामोल दवर्लिम सालसेत (गोवा) -403707संपर्क – 9356437855ईमेल- pujadhargalkar7@gmail.com   शोध सार स्त्री विमर्श, आदिवासी विमर्श, दलित विमर्श, किसान विमर्श, बाल विमर्श लेकिन किन्नर विमर्श यह ज्वलंत विषय ही और इसी विषय के जरिए हम उनके दुख को काम तो नहीं …

error: कॉपी नहीं शेयर करें!!