Showing 2 Result(s)

वैश्विक महामारी कोरोना के संदर्भ में: साहित्य की भूमिका-सारिका ठाकुर

वैश्विक महामारी कोरोना के संदर्भ में: साहित्य की भूमिका सारिका ठाकुर शोधार्थी,विनोबा भावे विश्वविद्यालयहजारीबाग,झारखंडSarikathakur406@gmail.comमो.नं.-9403758576स्थायी पता – आदर्श नगर, हीरापुर,धनबाद, झारखण्ड 826001 शोध सार वर्तमान समय में फैली वैश्विक महामारी(कोरोना) ने न केवल वर्तमान बल्कि भविष्य को भी प्रभावित किया है,  इसके प्रभाव का ही परिणाम है कि आज देश–विदेश की आर्थिक,  सामाजिक,  राजनीतिक,  धार्मिक,  पारिवारिक …

कोरोना संक्रमण और आपदाओं के संकट में आत्मनिर्भर भारत- सामाजिक संस्कृति के परिवर्तित परिप्रेक्ष्य में: रजनी

कोरोना संक्रमण और आपदाओं के संकट में आत्मनिर्भर भारत– सामाजिक संस्कृति के परिवर्तित परिप्रेक्ष्य में रजनी, शोधार्थी, राजनीति विज्ञान विभाग, दिल्ली विश्वविद्यालय , ईमेल  riya7116@gmail.com,संपर्क  9716452972 शोध सार वर्तमान में, दुनिया कोरोना (कोविद -19) महामारी की समस्या से जूझ रही है। जिसके कारण दुनिया के कई देशों को तालाबंदी का आदेश जारी करना पड़ा है। इस …

error: कॉपी नहीं शेयर करें!!