Showing 1 Result(s)

सात फेरों की चुभन-डॉ.वर्षा कुमारी

सात फेरों की चुभन            –डॉ.वर्षा कुमारी जीतू- सृष्टि इतना क्यों रो रही हो? चुप भी हो जाओ अब। तुम अकेली ऐसी लड़की नहीं हो न जिसकी शादी हुई है? और तुम कोई पराए घर थोड़ी ना आई हो। यहाँ से तुम्हारा मायका 4घंटे की दूरी पर ही तो है। जब तुम्हारा मन करे चली …

error: कॉपी नहीं शेयर करें!!