Showing 1 Result(s)

भारतीय समाज में दिव्यांगों का महत्व-अनिल कुमार पाण्डेय

भारतीय समाज में दिव्यांगों का महत्व अनिल कुमार पाण्डेय मेवाड़ वि.वि. चित्तौड़गढ़ (राजस्थान) शोध सार: भारतीय संस्कृति अनादि काल से ही मानवतापूर्ण रही है। जहाँ पर ‘‘सर्वे भवन्तु सुखिनः’’ का आदर्शवाक्य जपा जाता था क्योंकि इस परम पवित्र भूमि पर सबको समाप रूप से जीने और रहने का अधिकार है। चाहे वह किसी धर्म-जाति वर्ग …

error: कॉपी नहीं शेयर करें!!