Showing 1 Result(s)
Painting of Stonehenge

चांद का मुंह टेढ़ा है: नये परिप्रेक्ष्य में-अमित कुमार

चांद का मुंह टेढ़ा है’ को नये परिप्रेक्ष्य में देखना इसलिए भी महत्वपूर्ण हो जाता है कि उत्तर आधुनिक विमर्शों के इस दौर में जहाँ स्त्री, दलित, आदिवासी और जेंडर के सवाल खास संदर्भ में अपनी उदात्त उपस्थिति दर्ज करा रहें हों वहाँ इन हाशिये के समाज के प्रति मुक्तिबोध का दृष्टिकोण उनका नजरिया क्या था?

error: कॉपी नहीं शेयर करें!!